Regional

भाभी से जबरन शादी कराए जाने से आहत था नाबालिग देवर, चार घंटे बाद ही दे दी जान

पटना। बिहार के गया में विधवा भाभी से जबरन शादी कराए जाने के बाद नाबालिग देवर ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। वह अपनी भाभी को मां सामान मानता था, लेकिन घरवालों ने जबरदस्ती मंदिर में उसकी शादी भाभी से करा दी। इसी बात से आहत होकर उसने यह खौफनाक कदम उठा लिया।

घटना जिले के परैया थाना क्षेत्र के विनोबानगर रमना गांव की है। युवती नाबालिग किशोर की भाभी थी।.कुछ महीनों पहले ही उसकी मौत हो गई थी। महादेव अपनी भाभी को मायके भी लेकर जाता था। युवती के मायकेवालों ने महादेव के पिता पर दबाव बनाया। साथ ही गांव में पंचायती करायी। इसके बाद नाबालिग किशोर के पिता ने विवाह के लिए अपने बेटे पर दबाव बनाया और सोमवार को दिन में मंदिर में विवाह करा दिया गया।

नाबालिग का विवाह सोमवार के ही दिन उसकी विधवा भाभी के साथ कराया गया था। महादेव दास अपने पिता चंदेश्वर दास से विवाह कराने से इनकार कर रहा था लेकिन कन्या पक्ष द्वारा सामाजिक दबाव बनाने और गांव में पंचायती कराने के बाद सोमवार को मंदिर में दोनों का विवाह कार्यक्रम संपन्न कराया गया।

दोपहर बाद चार बजे तक शादी इसी मंदिर में हुई। विदाई होते-होते शाम हो गई। घर पहुंचने के कुछ ही देर बाद करीब 8 बजे नाबालिग गमछा से फांसी लगाकर झूल गया और अपनी जान दे दी। घटना के बाद से पंचायती कराने में शामिल लोग फरार बताये जाते हैं। पुलिस उनकी तलाश कर रही है।