Sports

मुझे अपनी तैयारियों पर पूरा भरोसा : सुंदर

मोहाली (पंजाब), 12 दिसम्बर (आईएएनएस)| यो-यो टेस्ट में विफल होने के बाद राष्ट्रीय टीम में जगह बनाने वाले युवा हरफनमौला खिलाड़ी वॉशिंगटन सुंदर ने मंगलवार को वनडे टीम में अपने चयन को सही ठहराते हुए कहा कि उन्हें अपनी काबिलियत पर पूरा भरोसा है और वह टीम में अपने रोल को समझते हैं।

सुंदर ने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में स्टीवन स्मिथ की कप्तानी वाली राइजिंग पुणे सुपरजाएंट को फाइनल में पहुंचाने में अहम भूमिका निभाई थी।

हालांकि राष्ट्रीय टीम में जगह बनाने के लिए सिर्फ इतना ही काफी नहीं था। तमिलनाडु के इस स्टार खिलाड़ी ने कहा कि उन्होंने राष्ट्रीय टीम में जगह बनाने के लिए कड़ी मेहनत की है।

यहां होने वाले दूसरे मैच की पूर्व संध्या पर संवाददाता सम्मेलन में सुंदर ने कहा, भारत के लिए खेलना हर क्रिकेट खिलाड़ी का सपना होता है। 18 साल के खिलाड़ी के तौर पर मुझे भारत के लिए खेलने का मौका मिला है यह मेरे लिए अच्छा अहसास है। मुझे अपनी तैयारियों में पूरा विश्वास है।

उन्होंने कहा, मैंने वापस जा कर तैयारी की। मुझे जहां जरुरत थी मैंने वहां काम किया है। मैंने गेंदबाजी का ज्यादा अभ्यास किया और बल्लेबाजी पर भी काम किया है। आप जानते हैं कि फिटनेस भारतीय टीम का अहम हिस्सा बन गई है।

टीम में खेलने के बारे में सुंदर ने कहा कि उन्हें जब भी मौका मिलेगा वह बल्ले और गेंद से अच्छा प्रदर्शन करेंगे।

उन्होंने कहा, मुझे निश्चित तौर पर 10 ओवर डालने के लिए तैयार रहना है और किसी भी स्थिति में बल्ले से भी योगदान देना है, चाहे में टीम में किसी भी स्थान पर क्यों न खेलूं।

सुंदर को वनडे टीम में केदार जाधव के स्थान पर जगह मिली है। जाधव चोटिल हो कर टीम से बाहर हो गए हैं।

सुंदर ने कहा, देखा जाए तो चार दिन हुए हैं, लेकिन मुझे नहीं लगता कि मैं अभी टीम के साथ जुड़ा हूं। मैं काफी खिलाड़ियों को जानता हूं। मैं माही भाई के साथ आईपीएल में खेला हूं। उन्होंने मुझे घर जैसा महसूस कराया।

सुंदर से जब पिछले मैच की धर्मशाला विकेट के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, आप काफी विकेट देखते हैं। घरेलू सत्र में आपको दो मैच धर्मशाला जैसी विकेट पर खेलने पड़ते हैं।

सुंदर ने धौनी की तारीफों के भी पुल बांधे। भारतीय टीम धर्मशाला में खेले गए पहले मैच में 29 रनों पर ही अपने सात विकेट खो बैठी थी, लेकिन इसके बाद धौनी ने 65 रनों की पारी खेल टीम को बचाया था और 100 के पार ले गए थे।

सुंदर ने कहा, माही भाई ने जिस तरह से बल्लेबाजी की थी, वो शानदार थी। वह लगातार काउंटर अटैक करते रहे। अगर 60-70 रन और होते तो अंतर पैदा हो सकता था।

भारत इस तीन वनडे मैचों की सीरीज में 0-1 से पीछे है। उसे सीरीज में बराबरी के लिए बुधवार को होने वाला मैच हर हाल में जीतना होगा।