National

रानी लक्ष्मीबाई के जन्मदिन पर रौशन हुआ झांसी

झांसी, 20 नवंबर (आईएएनएस)| उत्तर प्रदेश के बुंदेलखंड इलाके का ऐतिहासिक शहर झांसी रविवार की रात रोशनी से जगमग रहा। मौका था रानी लक्ष्मीबाई के जन्मदिवस का। इस अवसर पर रानी की प्रतिमा स्थल से लेकर शहर का हर चौराहा जगमगा रहा था। शहर के मुख्य चौराहों पर रंगोली बनाई गई और मोमबत्ती जलाकर रानी का स्मरण किया गया। कई महिलाएं लक्ष्मीबाई की तरह सिर पर पगड़ी और हाथ में तलवार थामे नजर आईं।

लक्ष्मीबाई के जन्मदिवस पर रविवार की सुबह से शुरु हुआ कार्यक्रमों का सिलसिला देर रात तक चलता रहा। इन आयोजनों में अन्य वगरें के साथ महिलाओं की हिस्सेदारी अहम रही। महिलाओं ने शाम को चौराहों पर रंगोली बनाई, लक्ष्मीबाई बनकर प्रतिमा स्थल पर जमा हुईं और समाज के विभिन्न लोगों के साथ मिलकर मोमबत्ती प्रज्जवलित की।

झांसी के सामाजिक संगठनों ने मिलकर शहर को विशेष तौर पर सजाया। यही कारण रहा कि रात के समय पूरी नगरी कुछ इस तरह जगमगाई कि दीपावली की याद ताजा हो गई। एक तरफ चौराहे जगमग थे, तो दूसरी ओर इमारतों पर रोशनी बिखरी थी।

महिला व्यापार मंडल अध्यक्ष कंचन आहूजा का कहना है कि, झांसी को पहचान लक्ष्मीबाई के कारण ही मिली है, यहां महिलाओं की रगों में उनके खून का अंश किसी न किसी रूप में दौड़ रहा है। यही कारण है कि रानी को पूरी शिद्दत के साथ याद किया जाता है। यहां की छात्राएं व महिलाएं इस आयोजन में हिस्सा लेने को अपना गौरव मानती हैं।

कंचन आहूजा के अनुसार, झांसी में कई संगठन महिलाओं के सशक्त बनाने के काम में लगे हैं। इसकी वजह भी कहीं न कहीं रानी लक्ष्मीबाई का प्रभाव है।