Other News

यहां अपनी ही शादी में शामिल नहीं हो सकता दूल्हा, बहन लेती है दुल्हन के साथ सात फेरे

गुजरात के छोटा उदेपुर शहर में आदिवासियों में में अनोखी शादी करने का रिवाज़ है जो शायद ही किसी ने देखी या सुनी हो। यहां के परिवार एक ऐसी परंपरा को निभाते हैं जिसे सुनकर आप भी हैरान हो जाएंगे। यहां होने वाली शादियों में दूल्हा अपनी ही शादी में शामिल नहीं होता।जी हां, अपने सही सुना उदयपुर में रहने वाले आदिवासी अपने यहां होने वाली शादी में दूल्हे को शामिल नहीं करते बल्कि उनकी बहने उनकी जगह दुल्हन के साथ सात फेरे लेती हैं।जानकारी के मुताबिक, शादी में दूल्हे की जगह उसकी अविवाहित बहन दूल्हे का प्रतिनिधित्व करती है। बहन बारात लेकर दुल्हन के घर जाती है और उससे शादी करती है। दूल्हा अपनी मां के साथ घर पर ठहरता है। दूल्हे की बहन ही सात फेरे लेगी और विदा करवाकर घर लाती है।हैरानी की बात ये है कि दूल्हा शेरवानी पहन सकता है, साफा पहन सकता है लेकिन अपनी शादी में शामिल नहीं हो सकता। यह परंपरा सुरखेड़ा, सनाडा और अंबल में अपनाई जाती है।

Prarthana Srivastava

Leave a Reply