Odd & WeirdOther News

अब गर्भ निरोधक नहीं Jewellery रोकेगी प्रेग्नेंसी, जानिए कैसे

ऐसा माना जाता है कि एक लड़की के जीवन की असल शुरुआत उसके विवाह के बाद होती लेकिन उसका जीवन पूर्ण तब होता है जब वो मां बनती है। जो हर एक औरत का सपना होता है। कई महिलाएं आसानी से गर्भधारण कर लेती हैं तो कुछ महिलाओं को गर्भधारण करने में कई तरह की समस्याओं का सामना भी करना पड़ता है। लेकिन कई बार ऐसा होता है कि महिलाएं गर्भ धारण नहीं करना चाहती हैं लेकिन अनचाहे गर्भ आ जाने के कारण उनको कई बार कई समस्याएं झेलनी पड़ जाती हैं, इसके कारण उन्हें शारीरिक पीड़ाओं का भी सामना करना पड़ जाता है।यह तो सभी जानते हैं कि अनचाही प्रेग्नेंसी को रोकने के लिए गर्भनिरोधक गोलियों या कोंडोम का इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन शोध से पता चला है कि गर्भनिरोधक गोलियां लेने से महिलाओं की सेहत पर बुरा असर पड़ता है। दरअसल, इनसे महिलाओं में हार्मोंस का संतुलन बिगड़ जाता है। लेकिन अब वैज्ञानिकों ने गर्भनिरोधक गोलियों की जगह एक अनोखा और दिलचस्प विकल्प ढूंढ लिया है। अब महिलाएं कॉन्ट्रासेप्टिव गोलियां खाएं बिना ही बर्थ कंट्रोल कर सकेंगी।

जी हां,वैज्ञानिकों का दावा है कि उन्होंने एक ऐसी कॉन्ट्रासेप्टिव ज्वैलरी विकसित की है जिसकी वजह से वो अनचाहे गर्भ को रोक सकती हैं।महिलाएं इसकी मदद से अब महिलाएं ईयररिंग, रिंग और नेकलेस पहनकर बर्थ कंट्रोल कर सकेंगी। वैज्ञानिकों द्वारा खोज की गई इन कॉन्ट्रासेप्टिव ज्वैलरी में कॉन्ट्रासेप्टिव हार्मोन के पैच लगे हुए हैं। इन ज्वैलरी को पहनने पर इसमें लगे कॉन्ट्रासेप्टिव हार्मोन स्किन द्वारा शरीर में एब्जोर्ब हो जाते हैं। यह रिपोर्ट कंट्रोल्ड रिलीज के जर्नल में प्रकाशित की गई है।

शोधकर्ताओं के अनुसार कॉन्ट्रासेप्टिव ज्वैलरी महिलाओं के शरीर में पर्याप्त मात्रा में कॉन्ट्रासेप्शन हार्मोन रिलीज करती हैं, जो बर्थ कंट्रोल में कारगर साबित हो सकती है। हालांकि, इंसानों पर अभी तक इन ज्वैलरी की जांच करनी बाकी है। वैज्ञानिकों के मुताबिक, ज्वैलरी की फॉर्म में कॉन्ट्रासेप्टिव बनाने का उद्देश्य रोजाना गर्भनिरोधक गोलियां लेने की जरूरत से महिलाओं को राहत देना है।

अमेरिका के जॉर्जिया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के मार्क प्रुस्निट्ज ने कहा कि आजकल गर्भनिरोधक के जितने विकल्प उपलब्ध हैं वह महिलाओं की जरूरतों को पूरा करने की संभावना को पूरा नहीं कर प् रहे हैं। वहीं, ज्वैलरी पहनना पहले से ही हर महिला की दिनचर्या का हिस्सा है। इसलिए इस तकनीक की मदद से दवाइयों से राहत पाई जा सकती है।

आपको बता दें, गर्भनिरोधक ज्वैलरी में ट्रांसडर्मल पैच टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया गया है, जो स्मोकिंग की लत को छुड़ाने, मेनोपॉज को रोकने और कई दूसरी बीमारियों की दवाइयों का संचालन करने के लिए उपयोग किया जाता है। लेकिन अभी तक इससे पहले इस तकनीक को कभी भी ज्वैलरी की फॉर्म में तब्दील नहीं किया गया है।

हालांकि, अभी इन ज्वैलरी को इंसानों पर जांच करना बाकी है। लेकिन वैज्ञानिकों का मानना है कि ईयररिंग और घड़ी की फॉर्म में कॉन्ट्रासेप्टिव हार्मोनल पैच अनचाही प्रेग्नेंसी को रोकने में सबसे ज्यादा असरदार साबित हो सकते हैं, क्योंकि इस तरह पैच का इस्तेमाल करने से यह स्किन के सबसे ज्यादा करीब रह पाते हैं, जिससे ज्यादा से ज्यादा ड्रग स्किन में पहुंचता है।

Prarthana Srivastava

Leave a Reply