City NewsRegional

कांग्रेसी नेताओं को आफिस से कई बार भगा चुकी है ये महिला IAS, गरीबों की मदद के लिए हमेशा रहती है तैयार

आज हम आपको ऐसी महिला के बारे में बताने जा रहे हैं जिसने महज 22 साल की उम्र में आईएएस की परीक्षा पास कर ली थी। इनका नाम स्वाति मीणा नायक है। जिला कलेक्टर के रूप में इनकी पहली पोस्टिंग मंडला में साल 2012 में हुई थी। तब इनकी उम्र महज 28 साल थी। स्वाति मीणा अपने काम के प्रति काफी ईमानदार हैं और ये अपने काम में किसी का भी दखल बर्दाश्त नहीं करतीं। चाहे वो सत्ताधारी दल का कोई नेता ही क्यों न हो।

दरअसल कुछ साल पहले खंडवा में पदभार संभालने के साथ ही चर्चाओं में आई कलेक्टर स्वाति मीणा नायक ने विश्वा कंपनी की शिकायत लेकर पहुंचे कांग्रेसियों से दो टूक बात की थी और ये भी कह दिया था कि ‘डू यू नो, आई एम कलेक्टर। इतना ही नहीं उन्होंने कांग्रेसी नेताओं को अपने केबिन से बाहर निकाल दिया था। इसके कुछ दिन बाद पंधाना विधायक योगिता बोरकर के साथ उनके पति नवलसिंह बोरकर और किसान उनके ऑफिस पहुंचे थे। तब कैबिन के अंदर चर्चाओं का दौर चल रहा था। विधायक पति नवलसिंह बोरकर के बाहर आने पर चर्चाएं रहीं कि कलेक्टर ने उन्हें कैबिन से बाहर निकाल दिया।

संवेदनशीलता को लेकर हमेशा चर्चाओं में रहने वाले खंडवा जिले में स्वाति मीणा नायक ने विशेष प्रयास किए थे। सद्भावना के लिए उन्होंने सभी को साथ में जोड़ते हुए सद्भावना मार्च निकलवाया था और जलेबी चौक पर एक बड़ा आयोजन भी कराया था। स्वाति नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में भी फील्ड में जाकर लोगों की समस्याओं को सुनना और उसे दूर करना पसंद करती हैं। अपने पति की ही तरह नेताओं की गैरवाजिब मांगों को उन्होंने कभी तवज्जो नहीं दी। वे जनता से सुनकर उनकी जरूरत के मुताबिक़ काम करने को तरजीह देती हैं।

Leave a Reply