Odd & WeirdOther News

एक लाख रुपये का नोट हुआ जारी!!, जानिए क्या है वजह।।।

नवंबर 2016 में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नोटबंदी की थी जिसके बाद रिज़र्व बैंक ने दो हजार का नोट किया। लोगों को दो हजार के नोट की कतई अपेक्षा नहीं थी, यदि आपको भी दो हजार का नोट एक बड़ा नोट लगता है तो आपको बता दें कि सरकार ने एक लाख का नोट भी जारी किया है।
2000 का नोट ही हमारे देश का सबसे बड़ा नोट नहीं है इससे पहले भी देश में एक ऐसा नोट जरी किया था जिसकी कल्पना भी  हम नहीं कर सकते हैं। जी हां, देश में एक समय वह भी था जब एक लाख रुपये तक का नोट चलन में था, यही नहीं उस समय पांच हजार का भी नोट था। खास बात यह है कि इन नोटों पर महात्मा गांधी की नहीं बल्कि सुभाष चन्द्र बोस की फोटो छपी होती थी।
नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की आजाद हिंद सरकार की ओर से एक लाख रूपए के नोटों को जारी किया था। इस बात की जानकारी  नेताजी के चालक रहे कर्नल निजामुद्दीन ने मीडिया को दिये एक साक्षात्कार में दी थी। आजाद हिंद बैंक को एक लाख का नोट जरी करने के लिए दस देशों का समर्थन भी प्राप्त था। इन देशों में वर्मा, क्रोसिया, जर्मनी, नानकिंग वर्तमान में चीन, मंचूको, इटली, थाइलैंड, फिलीपींस व आयरलैंड शामिल थे।
वर्ष 1943 में स्थापित आजाद हिंद बैंक की ओर से छापे गये 5000 के नोटों में से एक नोट बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के कला भवन में आज  भी सुरक्षित रखा गया है। जबकि हाल ही में नेता जी की प्रपौत्री राज्यश्री चैधरी ने विशाल भारत संस्थान को संग्रहालय के लिये एक लाख का एक नोट उपलब्ध कराया था। यह और बात है कि उस समय आजाद हिंद फौज के कर्नल निजामुद्दीन को महज 17 रुपये वेतन मिला करता था। वहीं आजाद हिंद फौज के लेफ्टिनेंट की कुल सैलरी महज 80 रुपये महीने थी।
Prarthana Srivastava