Top NewsUttar Pradeshमुख्य समाचारलखनऊ

लखनऊ में ट्रांसजेंडर समुदाय का जोरदार प्रदर्शन, देखें वीडियो

सुप्रीम कोर्ट ने अभी कुछ दिन पहले एक बड़ा फैसला सुनाते हुए कहा कि समलैंगिकता अपराध नहीं है। कोर्ट का यह फैसला देश में समलैंगिक व ट्रांसजेंडर समुदाय के लिए बड़ी जीत माना जा रहा है। इस फैसले के बाद से ही लोग जश्न मना रहे हैं। लेकिन इन सब के बीच उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में पायल फाउंडेशन के बैनर तले थर्ड जेंडर ने भारी संख्या में विरोध प्रदर्शन किया।

गौरतलब है कि बीते दिनों रमता ग्रुप के बैनर तले एक पत्रकार वार्ता का आयोजन किया गया था। जिसमें कहा गया था कि थर्ड जेंडर के ऊपर वाह फिल्म का निर्माण कर रहे हैं।

जल्द ही देश के सिनेमाघरों में थर्ड जेंडर के ऊपर बनी फिल्म का चित्रण किया जाएगा। प्रदर्शन कर रहे छात्रों का आरोप है कि समाज में उनकी छवि को नुकसान पहुंचाने व उनकी छवि को खराब करने के लिए बिंदास ग्रुप उनके जीवन पर आधारित फिल्म का निर्माण कर रहे हैं। बैठकों का आरोप है कि राहुल पंडित ने लिखा है।

लड़का लड़की पैदा होने पर लोग खुश होते हैं। लेकिन थर्ड जेंडर पैदा होने पर दुखी वही जब किसी किन्नर की मौत होती है तो उसका शव रात के अंधेरे में ले जाया जाता है। चप्पलों से मारा जाता है।

जहां सारी दुनिया मानवाधिकारों की बात कर रही है लेकिन थर्ड जेंडर की भावनाओं से खिलवाड़ हो रहा है। साथ ही उनके साथ उनके चरित्र को गलत ढंग से प्रस्तुत किया जा रहा है।

वहीं किन्नरों का कहना है अगर किसी व्यक्ति विशेष या थर्ड जेंडर की जानकारी ना हो तब तक उस पर कोई बात ना की जाए ना ही उसके बारे में कुछ प्रदर्शित किया जाए। अगर कोई प्रोड्यूसर-डायरेक्टर फिल्म बनाना चाहता है। जिस मुद्दे पर वह फिल्म बना रहा है सबसे पहले उस तथ्य की बारे में जानकारी करें ताकि कोई भी जानकारी समाज में गलत न फैलाई जा सकें।

वही प्रदर्शन कर रहे हैं पायल फाउंडेशन के बैनर तले किन्नरों का कहना है कि अगर उनके जीवन पर आधारित कोई फिल्म हिंदुस्तान के सिनेमाघरों में प्रदर्शित की गई या बनाई गई तो पूरे देश में वह विरोध प्रदर्शन करेंगे।

साथ ही उस प्रदूषण के खिलाफ मोर्चा खोल देंगे। वही ज्ञापन सौंपते हुए कहा इस बैनर तले उनके जीवन पर आधारित फिल्म का निर्माण किया जा रहा है। उत्तर प्रदेश सरकार उस पर सख्त कार्रवाई करें क्योंकि किन्नर समाज नहीं चाहता कि वह उनके जीवन पर आधारित कोई फिल्म बनाएं अगर उन्हें अपने जीवन पर आधारित फिल्म बनानी होगी तो वह स्वयं बना लेंगे।

Adarsh Kumar
the authorAdarsh Kumar