मुख्य समाचारलखनऊ

लखनऊ के इस बस अड्डा के आगे एयरपोर्ट भी है फेल, पार्किंग से लेकर थियेटर और वाई-फाई से लैस हैं 

आलमबाग़ बस अड्डा जिसके निर्माण की  नीव अखिलेश यादव ने डाली थी वो आखिरकार पूर्ण रूप से बन कर तैयार हो गया हैं।  इस बस अड्डे का इंतजर जनता कब से कर रही थी वो इंतजार अब ख़त्म हो गया हैं, जिसका उद्घाटन  मुख्यमंत्री  योगी आदित्यनाथ किया  है।   इस बस अड्डे के निर्माण का काम अखिलेश के राज में शुरू हुआ था, जिसकी वजह से सपा के कार्यकर्ताओं ने एक दिन पहले ही बस अड्डे का उद्घाटन कर दिया था।

आपको बता दे अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस इस बस अड्डे को एयरपोर्ट की तर्ज पर बनाया गया है, जहां पर पार्किंग से लेकर थियेटर और पूरे जोन को वाई-फाई से लैस किया गया है।

2012 में शुरू हुआ था निर्माण कार्य

आपको हम बता दे इस बस अड्डे निर्माण सबसे पहले मायावती के मुख्यमंत्री रहते शुरू हुआ था।  साल 2012 में अखिलेश यादव ने इस बस अड्डे को नए सिरे से और अत्याधुनिक बनाने की रूप रेखा तैयार की थी।

इस बस टर्मिनल को बनाने में 201 करोड़ रुपये की लागत आई है. इस बस अड्डे पर 125 कमरों का होटल, शॉपिंग मॉल, मल्टी स्क्रीन सिनेमा हॉल भी बनाया गया है. इतना ही नहीं ये बस अड्डा मेट्रो से भी यात्रियों को जोड़ेगा।

3.6 एकड़ में बना है बस टर्मिनल

जब किसी बस टर्मिनल को सीधे मेट्रो के साथ जोड़ा गया हो।  मेट्रो और टर्मिनल के लिए एक अलग से रास्ता बनाया गया है, जो सीधे बस अड्डे के फर्स्ट फ्लोर से कनेक्ट किया गया है. बसों को लेकर किसी तरह का कोई जाम न लगे, इसके लिए भी पूरी तैयारी की गई है। इसके लिए एक मोबाइल वैन तैनात की गई है, जो बसों को रोड पर खड़ी होने से रोकेगी।

750 बसें प्रतिदिन होंगी रवाना

बस टर्मिनल से यात्रियों के लिए 750 बसें मिलेंगी, इनमें सब तरह की एसी बस सेवाएं शामिल होंगी. यात्रियों को गोरखपुर, कानपुर, बनारस, इलाहाबाद तक और आगे के जिलों को जाने वाली बसें भी इसी बस टर्मिनल से मिलेंगी।

बैंक से लेकर खाने-पीने तक का इंतजाम

इस बस अड्डे की सबसे  बड़ी खासियत यह की इसमें यात्रियों की सुविधाओं को देखते हुए बस अड्डे पर बैंक, पोस्ट ऑफिस और डॉरमेट्री की भी व्यवस्था की गई है।  साथ स्टॉफ के लिए अलग से 100 बेड की डॉरमेट्री भी बनाई गई है। इसके साथ ही पूरे जोन को वाई-फाई से लैस किया गया है। यात्रियों को क्लॉक रूम, एसी और नॉन एसी वेटिंग रूम, फूड कोर्ट, लगेज स्कैनर, एयर टिकटिंग काउंटर की भी सुविधा दी गई है।

201 करोड़ की लागत से बने इस बस टर्मिनल में 45 प्लेटफॉर्म, 4 रिजर्व प्लेटफॉर्म, यात्रियों के वाहनों की पार्किंग की व्यवस्था है, जहां पर करीब 200 वाहन पार्क किए जा सकेंगे।

इसके साथ ही 50 बसों की अंडरग्राउंड पार्किंग की सुविधा, 17 टिकट और पूछताछ काउंटर बनाए गए हैं. बसों की साफ सफाई के लिए उचित व्यवस्था की गई है. इसके साथ ही 50 पिंक बसों का संचालन महिलाओं की सुरक्षा को ध्यान में रखकर किया गया है. दो अत्याधुनिक शौचालयों का निर्माण, वॉटर प्यूरीफायर मशीनें भी लगाई गई हैं।