Tuesday , 6 December 2016

जगद्गुरू कृपालु परिषत् ने किया विशाल भोज का आयोजन

Share on FacebookTweet about this on TwitterShare on Google+Share on LinkedIn
जगद्गुरु कृपालु परिषत्, साधुओं व विधवाओं के सम्मान में विशाल भोज, जगद्गुरु श्री कृपालु जी महाराज

bhoj programme by JKP

वृंदावन धाम। जगद्गुरु कृपालु परिषत्-श्यामा श्याम धाम द्वारा श्रीधाम वृन्दावन में साधुओं व विधवाओं के सम्मान में विशाल भोज का आयोजन आध्यात्मिक जगत की महानतम् विभूति एवं ज्ञान, भक्ति व करुणा के अगाध समुद्र जगद्गुरु श्री कृपालु जी महाराज द्वारा स्थापित संस्था “जगद्गुरु कृपालु परिषत्” एक वृहद् अन्तर्राष्ट्रीय संस्था है, जिसका एकमात्र उद्देश्य विश्व के समस्त प्राणियों का आध्यात्मिक व भौतिक कल्याण है।

यह एक धर्मनिरपेक्ष संस्था है, जहाँ समस्त धर्म, जाति व सम्प्रदाय के लोगों के लिये समान भाव है; क्योंकि श्री महाराज जी के सिद्धान्तानुसार समस्त जीव उस एक सर्वशक्तिमान ईश्वर की ही संतान हैं, जिसे ब्रह्म, परमात्मा, भगवान्, खुदा, गॉड आदि अनेक नामों से पुकारा जाता है।

भक्तियोग रसावतार जगद्गुरु श्री कृपालु जी महाराज की सुपुत्रियाँ सुश्री डॉ विशाखा त्रिपाठी जी, सुश्री डॉ श्यामा त्रिपाठी जी एवं सुश्री डॉ कृष्णा त्रिपाठी जी; जो जगद्गुरु कृपालु परिषत् की अध्यक्षायें हैं; दिन-प्रतिदिन समाज की निर्धन एवं अभावग्रस्त जनता की विभिन्न प्रकार से सेवा द्वारा समाज-सेवा के नये आदर्श स्थापित कर रही हैं।

परिषत् की अध्यक्षाओं के नेतृत्व में ब्रज में निवास कर रहे साधु-संतों, विधवाओं व निराश्रित महिलाओं की आवश्यकताओं का ध्यान रखते हुये नियमित रूप से अनेक दैनिक उपयोगी वस्तुओं का वितरण किया जाता है, साथ ही ब्रज में वास कर रहे नेत्रहीन, कुष्ठरोगियों एवं विकलांगों को जो आने में असमर्थ  हैं, उनके आश्रमों में जाकर उन्हें दैनिक आवश्यकता की वस्तुयें प्रदान की जाती हैं।

सामाजिक सेवाओं में सतत प्रयत्नशील जगद्गुरु कृपालु परिषत् की अध्यक्षाओं के नेतृत्व में दिनांक 21 नवम्बर 2016 को जगद्गुरु कृपालु परिषत्-श्यामा श्याम धाम द्वारा विशाल साधु भोज का आयोजन किया गया, जिसमें 5000 साधुओं को आमंत्रित किया गया।

भोज में पधारे साधुओं का आदर-सत्कार सहित भव्य स्वागत किया गया, उनके चरणों का प्रक्षालन करने के उपरान्त उन्हें विशाल मण्डप में आयोजित भोज के लिये ससम्मान ले जाया गया।

जो साधु-संत चलने में असमर्थ  थे, उन्हें व्हील चेयर पर बिठाकर कार्यक्रम स्थल तक ले जाया गया। साधुओं कों सम्मानपूर्वक भोजन करवाने के उपरान्त धोती-कुर्ता, शॉल, जैकेट, कम्बल, तौलिया, चटाई, छाता एवं अनेक दैनिक उपयोगी वस्तुयें दान-स्वरूप भेंट की गयीं।

असहाय महिलायें जिनके पति की मृत्यु हो जाने के उपरान्त उनके परिवारों ने उन्हें त्याग दिया है, जो अपने घरों से दूर ब्रज क्षेत्र में निवास कर रही हैं, जिनका अपना इस संसार में कोई नहीं, ऐसी विधवा व निराश्रित महिलाओं की जगद्गुरु कृपालु परिषत् द्वारा समय-समय पर अनेक प्रकार से सेवा की जाती है।

इसका श्रेय जाता है जगद्गुरु कृपालु परिषत् के संस्थापक जगद्गुरूत्तम श्री कृपालु जी महाराज को जो ऐसी निराश्रित महिलाओं की दयनीय दशा देखकर अत्यन्त द्रवित हो उठे और उन्होंने समाज से तिरस्कृत इन महिलाओं को सम्मान प्रदान करने के लिये समाज में विधवा भोज के आयोजन की नींव रख समाज सेवा का नया आदर्श प्रस्तुत किया।

आज अपने जगद्गुरु पिता द्वारा प्रशस्त मार्ग का अनुसरण करते हुये जगद्गुरु कृपालु परिषत् की अध्यक्षाओं के नेतृत्व में जगद्गुरु कृपालु परिषत् श्यामा श्याम धाम द्वारा दिनांक 22 नवम्बर 2016 को विशाल विधवा भोज का आयोजन किया गया।

भोज में विधवाओं को ससम्मान भोजन स्थल पर लाया गया। जो चलने में असमर्थ थीं, उन्हें व्हील चेयर पर बिठाकर भोजन स्थल पर ले जाने की व्यवस्था की गई।

विधवाओं को  भोजन कराने के उपरान्त उनके आगमन पर उनका सम्मान करने की दृष्टि से उन्हें वस्त्र, शॉल, जैकेट, कम्बल, तौलिया, चटाई व अनेक दैनिक उपयोगी वस्तुयें दान स्वरूप भेंट की गयीं।

भोज में पधारी महिलाओं ने जगद्गुरु श्री कृपालु जी महाराज के श्री चरणों में आभार व्यक्त करते हुये परिषत् की अध्यक्षा सुश्री डॉ विशाखा त्रिपाठी जी को धन्यवाद दिया।

इस पर परिषत् की अध्यक्षा ने सहज भाव से मुस्कुराते हुये कहा, “यह सब श्री महाराज जी की कृपा के फलस्वरूप हो रहा है, उन्होंने ही हमें दान धर्म की महिमा बतायी है, हम केवल उनके द्वारा लगाये गये दानधर्म रूपी वृक्ष को पोषित कर रहे हैं।”

About Diwakar Misra

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.

Free WordPress Themes - Download High-quality Templates