Wednesday , 26 April 2017

मोहम्मद रफ़ी की लाइफोग्राफी के साथ शुरू हुआ फिल्म फेस्टिवल

4जी शान-ए-अवध इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल की औपचारिक शुरूआत

avadh film festival

4जी शान-ए-अवध इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल की औपचारिक शुरूआत

लखनऊ चौथे शान-ए-अवध इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल 2016 का उदघाटन इतिहासकार डॉ योगेश प्रवीण और नवाब जाफ़र मीर, दिनेश सहगल, फिल्म बंधु उत्तर प्रदेश, पृथ्वीराज चौहान, निदेशक, आकाशवणी, विनोद मिश्रा अध्यक्ष, यूपी कलाकर एसोसिएशन की उपस्थिति में हुआ. इस मौके पर सभी ने फेस्टिवल के लगातार होते रहने और इस तरह के प्रयास की सराहना की और अवध आर्ट सोसाइटी को आगे भी समर्थन और सहयोग देने के लिए शहर से अपील भी की.

दो दिनों तक चलेगा यह फिल्‍मी मेला

बाद में हर दिल अज़ीज गायक मोहम्मद रफ़ी पर बनी लाइफओग्राफी का प्रदर्शन हुआ जिसमें ए लखनऊ के लोग मोहम्मद रफ़ी के तमाम गीतों और उनकी जीवन यात्रा तथा, तुम मुझे यूँ भुला ना पाओगे, ए दिल है मुश्किल जीना यहाँ, ज़िन्दाबाद- जिन्दाबाद ए मोहब्बत ज़िन्दाबाद सरीखे गीतों एवं उनके जीवनी दास्तान-ए-रफ़ी जिसमें रफ़ी के वो अनछुए किस्से जो आजतक कभी सिल्वर स्क्रीन पर नहीं आए, उनका संघर्ष और साधारण रफ़ी से महान और मशहूर मोहम्मद रफ़ी बनने की दास्ताँ थी.

मोह्म्मद रफ़ी पर बनी जीवनी के बाद फेस्टिवल में आदित्य खन्ना की काऊ मैनश् (जाति प्रथा पर अधारित) संदीप राना की औज़ार (सच्चर कमेटी की रिपोर्ट पर बेस्ड) और उत्तर प्रदेश के रिशव अग्रवाल की द इन्टरनेट अफेयर दिखायी गयी, उसके बाद भु माफियाओं पर बनी नटराज महार्शी की 1973 एन अनटोल्ड स्टोरी, एसिड अटैक पर बनी बर्न और बनारस के फ़िल्मकार आशुतोष सिंह की फेसबुक और प्रदेश की 2 और फिल्में वारी, मेमोरीज ऑफ़ नाईट पहले दिन प्रदर्शित हुयी.

फेस्टिवल डायरेक्टर अश्वनी सिंह एवं प्रोग्राम डायरेक्टर हफीज़ किद्वई ने फेस्टिवल के उदघाटन के मौके पर सभी फिल्म्कारों को बधाई दी और प्रदेश के युवाओं को इस तरह के आयोजन में शामिल होने की गुजारिश कीए और रफ़ी पर इन दिनों मचे बवाल पर करण जोहर को सार्वजनिक रूप से माफ़ी की मांग का प्रोत्साहन कियाए और रफ़ी के संघर्ष को और उनके योगदान को एक बार फिर याद दिलाया.

कल होने वाले कार्यक्रम में देश विदेश की फिल्मों के प्रदर्शन के साथ वरिष्ठ फिल्मकार कुंदन शाह (जाने भी दो यारों, क्या कह्ना, दिल है तुम्हारा, टीवी सीरियल नुक्कड़ इत्यादी) फिल्म एडिटर असीम सिन्हा (मम्मो, ज़ुबेदा, वेलकम टू सज्जनपुर, चलो दिल्ली, मोहल्ला अस्सी इत्यादी) सीनियर फिल्म क्रिटिक्स अजय ब्रह्मात्मज शामिल होंगे.

कल फेस्टिवल में दिखाई जाने वाली फिल्में

डायलमा, टाईटन, नोकेबो, आउट ऑफ़ रीच, आइरनी, अमृता और मैं, कालीचाट, स्याही, टुनाइट इस द नाईट, जुका व्लास्ट, कारीबदरा, मिशेला, लीला, हेवन किड, यू आर वाचिंग अ मूवी, द एज

स्थान- भारतेंदु नाट्य अकादमी, गोमती नगर, लखनऊ, समय- 11 बजे से शाम 5 बजे तक

 

 

 

About Diwakar Misra

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Free WordPress Themes - Download High-quality Templates